Coding कैसे करते है, कोडिंग करना कैसे सीखे?

आज के आधुनिक जमाने में Coding करने की वारे में समझ रखना काफी लाभदायक Skill माना जाता है। अभी के समय में पूरी दुनिया टेक्नोलॉजी और कंप्यूटर के ऊपर डिपेंड हो गई है, एसे में बात जब कंप्यूटर की ऊपर आती है तो कोडिंग की स्थान सबसे पहले आता है। क्युकी कोडिंग करके ही कंप्यूटर में website, app, software आदि बनाया जाता है।

इस पोस्ट में हम आपको कोडिंग करने के प्रकिया की वारे बताएंगे। साथ में ये भी बताएंगे की कोडिंग करना कैसे और कहा से सीखे। कृपया इस पोस्ट को मन लगाकर अंतिम तक पढ़े।

Coding kaise karte hai

Coding किया है?

जानकारी के लिए बता दू की एक कंप्यूटर को सिर्फ बाइनरी लैंग्वेज (0,1) ही समझ आती है! लेकीन एक इंसान के लिए सिर्फ बाइनरी लैंग्वेज इस्तेमाल करके किसी प्रोग्राम को बनना बहुत मुस्किल काम होता है। इस काम को आसान बनाने के लिए Programming Languages का आबिस्कार हुआ ! विभिन्न तरह की लैंग्वेज जैसे Html, Css, JavaScript आदि को इस्तेमाल करके किसी प्रोग्राम को लिखना ही Coding करना कहा जाता है। एक Coder (Developer) किसी प्रोग्रामिंग language को टाइप करके बाइनरी में convert कर देता है जिससे कंप्यूटर में एक Programme या एप्लीकेशन बनती है।

वैसे तो दुनिया में 5 हजार से भी ज्यादा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज उपलब्ध है लेकिन इनमें से करीब 250 languages को ही मान्यता मिली है। सबसे जनप्रिय और ज्यादा इस्तेमाल होने वाली लैंग्वेज की बात करे तो सिर्फ 20/25 लैंग्वेज को माना जाता है।

और पढ़े ~ Ms Excel कैसे चलाते है ?

Coding करना कैसे और कहा सीखे ?

कोडिंग करने के लिए आपको Programming Languages की समझ होना काफी जरूरी है। इसे सीखने के लिए आप किसी Computer Training Center में जा सकते हो। लेकिन एडमिशन लेने से पहले आप ऊहा पे कोडिंग की कोर्स सिखाया जाता है या नही, कौनसी Programming Language सिखाते है आदि सवाल पूछ लीजिएगा। आज के समय में भारत के स्कूल और कॉलेजों में भी कोडिंग की Classes दिए जाते है। आप कंप्यूटर की विषय को लेकर कोडिंग करना सीख सकते हो।

आप चाहे तो यूट्यूब और गूगल में सिख कर भी कोडिंग करना शुरू कर सकते हो। इंटरनेट में Codecademy, W3Schools, Github जैसे वेबसाइट कोडिंग सीखने के लिए काफी जनप्रिय है। इसके अलावा आप एक अच्छी ऑनलाइन कोर्स को लेकर भी कोडिंग की ज्ञान प्राप्त कर सकते हो। कोडिंग की फील्ड में practical work करना काफी जरूरी है, इसलिए अगर आपने theory का ज्ञान ले ली तो उसके बाद आपको प्रैक्टिकल वर्क में ज्यादा समय देनी चाहिए।

कोडिंग कैसे करते है:

अगर आपने किसी भी प्रोग्रामिंग language को अच्छे तरह से सिख लिया तो उसके बाद आप Coding करने की प्रैक्टिस कर सकते हो। बता दे की आप जितने ज्यादा कोडिंग की प्रैक्टिस करेंगे, उतने ही ज्यादा आप Expert बन पाएंगे। शुरुवात में प्रैक्टिस करने के लिए आप Notepad का इस्तेमाल भी कर सकते हो। एक नया ब्योक्ति के लिए ये सॉफ्टवेयर काफी बढ़िया माना जाता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दू की अलग अलग लैंग्वेजेस का इस्तेमाल अलग अलग कामों में किया जाता है। जैसे एक वेबसाइट बनाने के लिए Html, Css और एक सॉफ्टवेयर बनाने के लिए Python, Java जैसे लैंग्वेजेस को प्रयोग किया जाता है। इसलिए आप अपनी इंटरेस्ट के हिसाब से लैंग्वेजेस की चुनाब कर सकते है।

इस फील्ड में आप चाहे तो किसी एक Language में Expert बन सकते हो। लेकिन एक प्रोफेशनल coder बनने के लिए आपको सभी लैंग्वेजेस की Basic ज्ञान होना पड़ेगा। इसलिए लैंग्वेजेस की Basics जैसे- Syntax, Variables, Functions, Arrays आदि की ज्ञान होने से आपको कोडिंग करने में दिक्कत नही होंगी।

कोडिंग करने के फायदे:

• कोडिंग करने से इंसान का Logical Thinking improve होता है।

• कोडिंग करना एक ऐसी skill है, जो आपको दूसरे लोगो से आगे रखेंगे।

• एक study में पाया गया की कोडिंग करते रहने से आपके Problem Solving का स्किल भी डेवलप होता है।

• Digital India के तहत इंडिया में कोडिंग की डिमांड दिन ब दिन बढ़ते ही जा रहे है।

• कोडिंग करना अच्छी तरह से सीखने के बाद आपको आसानी से नौकरी मिल जायेंगे। इसके अलावा अगर आप नौकरी नहीं करना चाहते तो आप clients के लिए freelancing का काम भी कर सकते हो।

Coding सीखते वक्त ध्यान रखने वाली बातें:

अगर आप बिल्कुल beginner हो तो आपको पहले Html, Javascript जैसे आसान languages से स्टार्ट करनी चाहिए। ये लैंग्वेज सीखना काफी आसान है और इसे सीखने के बाद आप Php, Python जैसे लैंग्वेज को सिख सकते हो।

जब भी आप किसी एक प्रोग्रामिंग language को सीखते हो तो उसे बारीकी से सीखने के बाद ही आपको दूसरे लैंग्वेजेस के ऊपर ध्यान देनी चाहिए। क्युकी अगर आप एक ही समय में सभिको सीखने जायेंगे तो आप किसीको भी सिख नही पाएंगे।

शुरुवात के समय आप खुदकी वेबसाइट और एप्लीकेशन बनाने की कोशिश करें। कोडिंग में expert बनने के लिए आपको अपनी experiences और खुदकी गलतियों से सीखना पड़ेगा, तभी आप आगे बढ़ पाएंगे।

और पढ़े ~ Logo Designer कैसे बनते है?

Conclusion:

दोस्तो अगर आप अपनी करियर में आगे जाकर IT फील्ड में काम करना चाहते हो तो आपको कोडिंग करना जरूर सीखनी चाहिए। इसे करना कोई बड़ी मुस्किल काम नहीं है! अगर सीखने की चाहत हो तो एक बिना कम्प्यूटर साइंस लिए Student भी कोडिंग कर सकता है। आपने एक बार कोडिंग करना अच्छी तरह से समझ गई तो उसके बाद आप आसानी से webpage, एप्लीकेशन आदि बना सकते हो।

इस पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद ! आशा करते है की ये पोस्ट पढ़ के आपको कोडिंग कैसे किया जाता है की वारे में ज्ञान मिल सुकी है। इसी तरह की पोस्ट को पढ़ने के लिए हमारी साइट में आते रहे।